अभ्यास एक व्यक्ति को पूर्ण बनाता है पर निबंध, Abhyas ek Vyakti ko purna banata hai Essay in Hindi, Short, Long Essay in Hindi, for Class 6, 7, 8, 9, 10, and 12

अभ्यास एक व्यक्ति को पूर्ण बनाता है पर निबंध

Abhyas ek Vyakti ko purna banata hai Essay in Hindi

यदि हम अपने दैनिक दिनचर्या पर थोड़ा सा ध्यान दे, तो हम “अभ्यास एक व्यक्ति को पूर्ण बनाता है” कहावत के बहुत से उदाहरण पाएगें। प्रकृति स्वंय में बहुत से रुपों में पूर्ण है। मनुष्य के साथ ही अन्य जीवित प्राणियों को अपनी आजीविका को प्राप्त करने के लिए कठिन परिश्रम करना पड़ता है। मनुष्य को किसी भी वस्तु को पूर्णता के साथ सीखने के लिए नियमित अभ्यास करना पड़ता है। मनुष्य को स्वंय के लिए लक्ष्यों को निर्धारित करने पड़ते हैं और उसके बाद सफल जीवन के लिए उसी के अनुसार अभ्यास करना पड़ता है। नियमित अभ्यास करने के लिए, किसी को भी बहुत अधिक धैर्य, लगन, और दृढ़ इच्छाशक्ति की आवश्यकता होती है। अभ्यास लोगों के गुणों को बेहतर गुणों में बदल सकता है। कुछ निश्चित गतिविधियों का अभ्यास करने के लिए, मनुष्य को अपना मस्तिष्क, आत्मा, और शरीर को एक स्थान पर सुचारु रुप से अधिक सहजता और सन्तुष्टि के साथ निश्चित आवश्यक उपलब्धियों की प्राप्ति के लिए एकाग्रता की आवश्यकता है।

बिना दृढ़ निश्चय के, कोई भी सफलता के साथ अभ्यास में सलग्न नहीं हो सकता है. आशाहीन व्यक्ति कभी भी अभ्यास नहीं करते हैं, क्योंकि वे पर्याप्त परिणाम की प्राप्ति से पहले ही आसानी से अपना अभ्यास छोड़ देते हैं। अभ्यास को नियमित रखने के लिए, एक व्यक्ति को सकारात्मक सोच के साथ आशा, विश्वास और आत्मविश्वास की आवश्यकता होती है। यदि हम इतिहास पर दृष्टि डालें, तो हम देखते हैं कि, एकलव्य को गुरु द्रोणाचार्य ने धनुर्विद्या सीखाने से मना कर दिया था हालांकि, उसके दृढ़ निश्चय ने उसकी मदद की और वह अपने गुरु की मूर्ति के सामने किए गए कुछ वर्षों के नियमित अभ्यास से तीरअंदाजी बहुत अच्छे से सीख गया था।

अभ्यास हमारे लिए व्यायाम और मंत्र की तरह है, जो शारीरिक और मानसिक संस्थाओं को आवश्यक आवृत्ति के साथ एक रास्ते पर लाती है और धीरे-धीरे लेकिन निश्चितता के साथ हमें पूर्णता की ओर ले जाती है। विश्वास के साथ नियमित अभ्यास एक एकजुट ताकत का निर्माण करता है, जो शारीरिक और मानसिक संस्थाओं को आवश्यक आवृत्ति के साथ कार्य करने के लिए एक-दूसरे से जोड़ता है। यदि योजनाबद्ध तरीके से अभ्यास किया जाए, तो कोई भी अपना लक्ष्य धीरे-धीरे से लेकिन निश्चय ही प्राप्त कर सकता है। महत्वाकांक्षी लोग अपनी महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए कठिन परिश्रम करते हैं, परन्तु कभी भी हारने के बारे में नहीं सोचते हैं। अभ्यास सबसे अच्छा उपकरण है, जिसे हम अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए क्षमताओं से परे, अपनी प्रतिभाओं और क्षमताओं को तेज करने प्रयोग कर सकते हैं। अभ्यास हमारा सबसे अच्छा दोस्त होता है, जो हमें सफलता की ओर ले जाता है और सदैव ज्ञान को हमारे साथ रहने देता है।

यह आत्मविश्वास के स्तर को बढ़ाकर सुस्त उत्प्रेरणाओं को जगाने में लोगों की मदद करता है। यह हमारे मस्तिष्क को शान्त करता है और खुशी प्रदान करता है, क्योंकि किसी भी वस्तु का अभ्यास ध्यान की तरह होता है। हम किसी भी वस्तु को प्राप्त कर सकते हैं और अभ्यास के माध्यम से दुर्गम ऊँचाईयों तक पहुँच सकते हैं। यह हमें सही दिशा में जाने और चुनौतियों का सामना करके जीतने की क्षमता प्रदान करने के लिए तैयार करता है। अभ्यास नियमित गतिविधि है, जो दृढ़ इच्छाशक्ति को बढ़ाने और मजबूत पूर्णता के साथ अपने लक्ष्य की ओर बढ़ने में प्रोत्साहित करता है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.