मेरा पालतू कुत्ता पर निबंध, Mera Paltu Kutta Essay in Hindi, Short and Long Essay, Hindi Anuched for Class 6, 7, 8, 9, 10, and 12 Students.

मेरा पालतू कुत्ता पर निबंध

Mera Paltu Kutta Essay in Hindi

                  कुत्ता एक पालतू जानवर और मनुष्य का सबसे अच्छा दोस्त माना जाता है। यह एक व्यक्ति को प्यार और ईमानदार से भरा साथ देता है। यह अपने मालिक को बहुत अधिक प्यार करता है और उसको सम्मान देता है और उसके साथ सभी जगह जा सकता है। यह मालिक के सामने पूँछ को हिलाकर और उसके हाथ या मुँह को चाटकर उसके प्रति अपना प्रेम दिखाता है। यह पूरे जीवनभर बहुत तरीकों से अपने मालिक की मदद करता है। यह लोगों के अकेलेपन को उन्हें मित्रवत साथ देकर दूर करता है। यह किसी अंजान व्यक्ति को अपने घर के अन्दर कभी भी प्रवेश नहीं करने देता या मालिक की किसी भी चीज को छूने नहीं देता है। जब कभी भी कोई अजनबी घर की ओर आता है तो यह जोर-जोर से भौंकना शुरु कर देता है।

                  जब कभी भी अजनबी या चोर इसके भौंकने को नजअंदाज करते हैं या कोई शरारत करते हैं तो यह काट भी सकता है। कुछ लोग आसानी से इससे डर जाते हैं हालांकि कुछ कभी भी इससे नहीं डरते हैं। कुछ लोग जो पालतु भेड़ रखते हैं उनके पास कुत्ते अवश्य होते हैं क्योंकि वे भेड़ों की देखभाल करने के लिए बहुत ही उपयोगी होते हैं। वे किसी भी भेड़ियें या लोमड़ी को भेड़ों के पास या आक्रमण करने की अनुमति नहीं देते हैं। यह बहुत ही देख-रेख करने वाला जानवर है और अजनबियों, चोरों और अपराधियों को पकड़ सकता है, यहाँ तक कि वे कहीं भी छिपे ही क्यों न हो। छिपे हुए चोरों या अपराधियों को खोजने के लिए कुत्ते अपनी सूँघने की क्षमता का प्रयोग करते हैं। इसकी देख-रेख वाले स्वाभव और बुद्धिमत्ता के कारण, पुलिस, सेना या अन्य जांचकर्ता विभाग के द्वारा खूनियों और अपराधियों को पकड़ने के लिए इसका सबसे अधिक प्रयोग किया जाता है। यह पुलिसवालों को उस स्थान तक ले जाता हैं, जहाँ खूनी या अपराधी छिपा हुआ होता है।

                   यह अपने मालिक को कभी भी नहीं छोड़ता, चाहे वह गरीब, भिखारी या अमीर हो। यह बहुत ईमानदारी से अपने मालिक के सभी आदेशों का अनुसरण करता है। यह सभी समय अपने मालिक की सेवा में सतर्क रहता है, चाहे वह दिन हो या रात। यही कारण है कि, यह बहुत ही वफादार जानवर कहा जाता है। इसका स्वभाव बहुत ही सतर्क रहने वाला होता है और रात में बहुत धीमी आवाज को सुनकर बहुत जल्दी कार्यवाही करता है। यह बहुत दूरी से ही अपने मालिक की उपस्थिति को उसकी गंध के माध्यम से महसूस कर लेता है और उसका घर में स्वागत करने के लिए तैयार हो जाता है। कुत्ते की जीवन अवधि बहुत ही कम होती है हालांकि, यह 12 से 15 साल तक जीवित रहता है। कुत्ते की जीवन अवधि उनके आकार के अनुसार अलग होती है, जैसे – छोटे कुत्तों का अधिक जीवन और बड़े कुत्तों का कम जीवन।

                    एक मादा कुत्ता पिल्लों को जन्म देती है और अपना दूध पिलाती है, जिसके कारण कुत्तों को स्तनधारियों की श्रेणी में रखा जाता है। कुत्ते के बच्चे को पॉप, पप्पी या पिल्ला कहा जाता है और इसके घर को कैनल कहा जाता है। ठंड़े देशों में लोग कुत्तों को स्लेड्ज़ खींचने के लिए प्रयोग करते हैं। कुत्तों को लोगों की सेवा करने के अनुसार श्रेणीबद्ध किया जाता है; जैसे- गार्ड कुत्ते, हैरडिंग (चरवाहा) कुत्ते, शिकारी कुत्ते, पुलिस के कुत्ते, पथप्रदर्शक कुत्ते, खोजी कुत्ते आदि।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.