स्वास्थ्य ही धन है पर निबंध, Swasthya hi Dhan Hai Essay in Hindi, Short, Long Essay in Hindi, Hindi Anuched for Class 6, 7, 8, 9, 10, and 12 Students.

स्वास्थ्य ही धन है पर निबंध

Swasthya hi Dhan Hai Essay in Hindi

 

जैसा कि हम सभी, सबसे तेज, भीड़ वाले और व्यस्त समय में रह रहे हैं। हमें धन कमाने के लिए पूरे दिनभर में बहुत से कार्यों को करना पड़ता है हालांकि, हम यह भूल जाते हैं कि, अच्छा स्वास्थ्य हमारे स्वस्थ जीवन के लिए पानी और हवा की तरह ही आवश्यक है। हम समय पर पर्याप्त भोजन लेना, व्यायाम करना, पर्याप्त आराम करना आदि झूठा धन कमाने के लिए भूल जाते हैं। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि, हमारे जीवन में वास्तविक धन हमारा स्वास्थ्य है। सभी के लिए यह सत्य हैं कि, “स्वास्थ्य ही धन है”।

एक अच्छा स्वास्थ्य तनाव को कम करता है और बिना किसी परेशानी के स्वस्थ जीवन को बढ़ावा देता है। हमें हमेशा अपने स्वास्थ्य के बारे में जागरुक रहना चाहिए और नियमित स्वास्थ्य जाँच करानी चाहिए। हमें अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए ताजे फलों, सलाद, हरी सब्जियाँ, दूध, अंडे, दही आदि को रखने वाला सन्तुलित भोजन समय पर करना चाहिए। एक अच्छे स्वास्थ्य के लिए कुछ शारीरिक गतिविधियों, पर्याप्त आराम, स्वच्छता, स्वस्थ वातावरण, ताजी हवा और पानी, व्यक्तिगत स्वच्छता आदि की भी आवश्यकता होती है। अस्पतालों के सामने से भीड़ को कम करने के लिए अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखना अच्छी आदत है। अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखना अच्छी आदत है, जिसका माता-पिता की मदद से बचपन से ही अभ्यास करना चाहिए।

पहले के दिनों में, जीवन इतना अधिक व्यस्त नहीं था। जीवन बहुत सरल था और इन दिनों की तुलना में स्वस्थ वातावरण के साथ कई चुनौतियों से मुक्त था। लोग स्वस्थ थे क्योंकि, वे अपने दैनिक जीवन के सभी कार्यों को स्वंय अपने हाथों और शरीर से करते थे। लेकिन आज, तकनीकी संसार में जीवन बहुत सरल और आरामदायक होने के साथ ही प्रतियोगिता के कारण व्यस्त हो गया है। आजकल, आसान जीवन संभव नहीं है क्योंकि, सभी दूसरों से बेहतर जीवन जीने के लिए अधिक धन कमाना चाहते हैं। आजकल, जीवन मँहगा और कठिन होने के साथ ही अस्वस्थ हो गया है क्योंकि, सभी वस्तुएँ; जैसे- हवा, पानी, पर्यावरण, भोजन आदि दूषित, संक्रमित और प्रदूषित हो गई हैं।

लोगों को बिना किसी शारीरिक गतिविधि के कार्यालयों में कम से कम 9 से 10 घंटे, कुर्सी पर बैठकर कार्य करना पड़ता है। वे घर में देर शाम या रात को आते हैं और घर के किसी भी कार्य या व्यायाम को करने के लिए बहुत अधिक थके हुए होते हैं। फिर से अगली सुबह वे देर से उठते हैं और कुछ आवश्यक कार्यों, जैसे- ब्रश करना, नहाना, नाश्ता करना आदि करते हैं और अपने ऑफिस चले जाते हैं। इस तरह, वे अपनी दैनिक दिनचर्या को केवल धन कमाने के लिए जीते हैं, न कि अपने स्वंय के जीवन के लिए। अपने दैनिक जीवन की आधारभूत आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए धन कमाना बहुत आवश्यक है हालांकि, एक स्वस्थ और शान्तिपूर्ण जीवन जीना भी आवश्यक है, जिसके लिए अच्छे स्वास्थ्य की आवश्यकता है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.